शहर और राज्य

जनपद संत कबीर नगर गेहूं क्रय केंद्रों पर कर्मचारियों की मनमानी से किसानों को होना पड़ रहा है आहत , दो दो दिन तक इंतजार करने पर भी गेहूं की तौल नहीं हो पा रही है

डे नाइट न्यूज़ ब्यूरो चीफ संजय कुमार यादव की रिपोर्ट

जनपद संत कबीर नगर दिनांक 29/04/ 2021

डे नाइट न्यूज़

नेशनल न्यूज़ नेटवर्क

मामला जनपद संत कबीर नगर के बघौली ब्लाक के जसवाल गेहूं क्रय केंद्र का है जहां पर कर्मचारियों की मनमानी से किसानों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है गेहूं की तौल सही समय से ना होने से किसान मजबूर होकर के गेहूं को वापस अपने घर ले जा रहा है फिर अगले दिन वापस लेकर आता है पूरा दिन इंतजार करने के बाद भी गेहूं की तौल नहीं की जाती है कर्मचारियों की हो रही मनमानी को जिला शासन प्रशासन कब लेगा संज्ञान में

Day night news

Netional News network

गेहूं क्रय केंद्र कर्मियों की मनमानी से किसान दुखी

जिले में सरकारी गेहूं क्रय केंद्र पर किसान अपने फसल का वाजिब मूल्य पाने के लिए क्रय केंद्रों पर चक्कर लगाने को मजबूर है, सरकार द्वारा भले ही जिला स्तर पर जिलाधिकारी के नेतृत्व में खरीद केंद्र का निर्धारण कर दिया गया हो लेकिन विभागीय लापरवाही के चलते किसानों को क्रय केंद्रों से आकर मायूस वापस लौटना पड़ रहा है । क्या है पूरा मामला देखिए हमारे खास रिपोर्ट


कोरोना महामारी के इस दौर में देश के सामने दो चुनौतियां है एक तो कोरोना महामारी से निपटने की और दूसरी खाद्यान्न की आपूर्ति। कोरोना की महामारी से निपटने के लिए सरकार और डाक्टर्स आदि पूरी कोशिश कर रहे हैं तो दूसरी ओर खाद्यान्न आपूर्ति का जिम्मा किसानों ने संभाल रखा है। इस बार भी देश में किसानों के गेहूं की अच्छी पैदावार हुई है। वहीं इसकी खरीद को लेकर सरकार ने किसानों के हित में फैसले लिये हैं। हाल ही में कोरोना काल में जीवन के साथ जीविका बचाने में जुटे उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों के हित में बड़ा फैसला किया है। उनके निर्देश पर किसानों की सहूलियत के लिए गेहूं क्रय की पूर्व में तय व्यवस्था में व्यापक बदलाव किया गया है। किसान अब किसी भी सरकारी क्रय केंद्र पर अपना गेहूं न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बेच सकेंगे। लेकिन जिम्मेदारों की उदासीनता के किसान दर-दर भटकने को मजबूर हो रहे हैं आपको बताते चलें की पूरा मामला बखीरा क्षेत्र के जसवल स्थित गेहूं क्रय केंद्र से जुड़ा है जहां पर तैनात केंद्र प्रभारी की उदासीनता से किसान काफी मायूस है जबकि जिलाधिकारी दिव्या मित्तल द्वारा समय से सेंटरों को खोलकर वहां पहुंचने वाले किसानों के फसल खरीद सुनिश्चित किए जाने का फरमान पूर्व में ही जारी हो चुका है लेकिन बेपरवाह केंद्र प्रभारियों की उदासीनता जिलाधिकारी के आदेश पर भारी पड़ता नजर आ रहा है। किसान हरिराम उपाध्याय ने बताया कि विगत 2 दिनों से मैं जसवल केंद्र पर आ रहा हूं और मुझे मायूस लौट कर वापस जाना पड़ रहा है ना तो यहां पर केंद्र प्रभारी मिलते हैं और ना ही और कोई जिम्मेदार अधिकारी उन्होंने कहा कि किसानों को अपनी गेहूं बेचने के लिए तमाम कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने अपने दर्द बयां करते हुए कहा किराए पर गाड़ी लाया हूं जिसका किराया हमको ही देना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *